Friday, November 18, 2011

आधा शहर करता रहा पानी का इंतजार, नहीं मिली राहत

जयपुर,(18/11/11)(Tehelkanews)

बीसलपुर योजना के मुख्य फीडर के शटडाउन के दौरान पानी का प्रबंधन करने में जलदाय विभाग फेल साबित हुआ है। गुरुवार सुबह तक पाइपलाइनों का इंटरकनेक्शन व पानी ट्रांसफर नहीं हो पाया। इसका खमियाजा उपभोक्ताओं को पेयजल किल्लत के रूप में झेलना पड़ा। हाल यह रहा है कि जगतपुरा में गुरुवार सुबह पेयजल सप्लाई ही नहीं हुई और शाम को पानी देना पड़ा।



शहर के आधे से ज्यादा हिस्से में लोगों को पानी की किल्लत हुई। इन हिस्सों में करीब 25 से 35 मिनट कम प्रेशर से सप्लाई हुई। मैनेजमेंट ठीक नहीं होने से पहले से 250 लाख लीटर स्टोरेज पानी भी गुरुवार को खर्च हो गया। आशंका जताई जा रही है कि यदि सर्ज टैंक जोड़ने का काम शुक्रवार सुबह तक पूरा नहीं हुआ तो शाम की सप्लाई में पेयजल किल्लत का सामना करना पड़ेगा।



इंटरकनेक्शन पूरा न होने की दशा में जगतपुरा, मालवीय नगर व जवाहर नगर जैसे उन इलाकों में ज्यादा परेशानी होगी, जहां पानी का अन्य कोई स्रोत नहीं है। शहर में अन्य दिनों के बजाए गुरुवार को 700 लाख लीटर पानी की कम सप्लाई हुई। इससे बरकतनगर, जवाहरनगर, जगतपुरा, दुर्गापुरा, आदर्शनगर, राजापार्क, बापूनगर, सीकर हाउस सहित अन्य इलाकों में ज्यादा दिक्कत हुई।





पानी का इंतजार



इंजीनियरों ने जगतपुरा इलाके में पेयजल सप्लाई के लिए अन्य इलाकों की तरह पुरानी पाइपलाइन से वाया जवाहर सर्किल बीसलपुर का पानी लेने की योजना बनाई थी। लेकिन मिलान का काम व वाल्व फेल हो गया। सुबह लोग नलों पर पानी का इंतजार करते रहे। लोग इंजीनियरों को फोन भी करते रहे, लेकिन संतोषजनक जवाब नहीं मिला। बाद में अन्य ोंतो से पानी एकत्रित कर शाम को पेयजल आपूर्ति की गई।



उभरे विवाद



विभाग के आला अफसर मैनेजमेंट करने में फेल तो रहे हैं, फील्ड के इंजीनियरों की भी खींचतान भी नहीं रोक पाए। बीसलपुर योजना में शटडाउन से प्रभावित इलाकों को पानी की उपलब्धता वाले क्षेत्रों से पानी देना था। लेकिन इन इलाकों के इंजीनियरों ने अपने क्षेत्रों की सप्लाई में कटौती नहीं की। इस कारण इंजीनियरों में विवाद भी उभरे।



स्टोरेज पानी खत्म



विभाग ने रामनिवास बाग, जवाहर सर्किल, बंध गेट, अमानीशाह नाला जलाशयों में स्टोरेज पूरे पानी को सप्लाई कर दिया। ऐसे में सर्ज टैंकर व एयर वाल्व जोड़ने का काम शुक्रवार सुबह तक पूरा करना जरूरी है। ऐसा नहीं हुआ तो प्रभावित इलाकों को कम पानी मिल पाएगा। चीफ इंजीनियर (स्पेशल प्रोजेक्ट) विनय माथुर ने दावा किया है कि सर्ज टैंक के मिलान का काम 75 फीसदी से ज्यादा पूरा हो चुका है। दोपहर से पहले काम पूरा हो जाएगा।



नहीं कटी बिजली



बीसलपुर योजना के शटडाउन के बाद शहर की पेयजल आपूर्ति करीब 1850 ट्यूबवेल्स पर निर्भर हो गई है। दो घंटे की बिजली कटौती से जलदाय विभाग को नलकूपों से 300 लाख लीटर पानी कम मिल रहा था। लेकिन गुरुवार को कटौती नहीं होने से 300 लाख लीटर पानी ज्यादा मिला। इससे दिक्कत थोड़ी कम हुई।



जवाहर नगर सेक्टर-4 में कम दबाब से आया पानी



जवाहरनगर सेक्टर-4 में कम दबाव से पेयजल आपूर्ति हुई। ऊंचाई वाले इलाकों में लोग पीने के लिए भी पूरे बर्तन नहीं भर पाए। उपभोक्ता नीलम ने बताया कि अन्य दिनों के एवज में यहां आधी मात्रा में ही पानी सप्लाई हुआ। पानी के लिए परेशान होना पड़ा।



मोती डूंगरी इलाके में देरी से आया पानी



मोती डूंगरी इलाके की गणोश कॉलोनी में शाम 5.30 बजे के बजाए नलों में शाम 5.50 बजे पानी आया। पानी की देरी के कारण नलों पर महिलाओं की कतारे लग गई। यहां पर करीब 30 मिनट ही पानी की सप्लाई होने से उपभोक्ता परेशान रहे।



जवाहर नगर बाइपास के लोगों मे रोष



जवाहरनगर बाइपास इलाके में भी लोगों को कम प्रेशर से पानी आया। स्थानीय निवासी सरोज देवी ने बताया कि अन्य दिनों यहां पहली मंजिल पर पानी चढ़ जाता था, लेकिन बुधवार व गुरुवार को भूजल पर ही बाल्टियों में पानी भरकर ऊपर ले जाना पड़ रहा है। पानी की मात्रा भी कम है। इलाके के लोगों में भारी रोष है।



मांग बढ़ी, लेकिन टैंकर नहीं पहुंचे



नलों में पर्याप्त पानी नहीं आने से प्रभावित इलाके की अधिकांश कॉलोनियों में टैंकरों की मांग दिनभर बनी रही। सिद्धार्थनगर, विष्णुपुरी व अन्य कॉलोनियों के लोगों ने आरोप लगाया है कि नलों में पानी भी नहीं आया और विभाग ने टैंकरों से भी सप्लाई नहीं की।



विभाग ने जताया संतोष

जलदाय विभाग के अधीक्षण अभियंता दिनेश शर्मा ने बताया कि एक-दो इलाकों को छोड़ कर अन्य सभी जगह पर्याप्त मात्रा में व समय पर पेयजल सप्लाई हुई। शुक्रवार सुबह पेयजल सप्लाई भी ठीक हो जाएगी।
News From: http://www.7StarNews.com

No comments:

 
eXTReMe Tracker